अल्मोड़ा……. अतिक्रमण को लेकर डीएम ने कही ये बात

खबर शेयर करें

अल्मोड़ा। जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक जिलाधिकारी विनीत तोमर की अध्यक्षता में कलक्ट्रेट में आयोजित की गई। सर्वप्रथम जिलाधिकारी ने पूर्व बैठक में दिए गए निर्देशों के अनुपालन में किए गए कार्यों की समीक्षा की।

बैठक में जिलाधिकारी ने संबंधितों को निर्देश दिए कि जिस स्थल पर दुर्घटना होती है, तो पुलिस विभाग, परिवहन विभाग संबंधित सड़क के अधिकारी तथा संबंधित उपजिलाधिकारी अनिवार्य रूप से दुर्घटना स्थल का संयुक्त निरीक्षण करें तथा दुर्घटना के कारणों का पता लगाने  एवं दुर्घटनों को रोकने के लिए आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि चयनित दुर्घटना संभावित स्थलों में अवशेष सुधार कार्य जल्द पूर्ण किए जाएं। जिलाधिकारी ने अतिक्रमण किए गए स्थलों से अतिक्रमण हटाने के निर्देश संबंधितों को दिए तथा अतिक्रमण के लिए की जा रही कार्यवाहियों की भी डिटेल तैयार करने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें 👉  दुःखद: अल्मोड़ा के शिक्षक और सिदार्थ पार्लर की संचालिका के पति का निधन

नालों एवं कल्वर्ट से भी अतिक्रमण हटाने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। उन्होंने पुलिस विभाग एवं परिवहन विभाग को निर्देश दिए कि ट्रैफिक में नियमों की अवहेलना करने वालों के विरुद्ध प्रवर्तन की कार्रवाई बढ़ाई जाए। रात्रि चेकिंग, स्कूली वाहनों की चेकिंग जैसे आवश्यक दिशा निर्देश भी जिलाधिकारी द्वारा दिए गए। इस दौरान उन्होंने सड़कों के विभिन्न प्रकरणों की भी समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिए कि सड़कों में जहां भी डामरीकरण के कार्य किए जाने हैं उन्हें जल्द पूर्ण किए जाएं। उन्होंने कहा कि सड़क निर्माण में गुणवत्ता के साथ समझौता न किया जाए। कहा कि जिस सड़क की गुणवत्ता में शिकायत पाई जाती है, तो ठेकेदार एवं संबंधित अधिकारी के विरुद्ध कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। बैठक में सदस्य सचिव अधीक्षण अभियंता पीडब्ल्यूडी डीएस ह्यांकी, आरटीओ गुरदेव सिंह, परियोजना निदेशक पुष्पेंद्र सिंह  सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 सजग पहाड़ के समाचार ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें, अन्य लोगों को भी इसको शेयर करें

👉 सजग पहाड़ से फेसबुक पर जुड़ें

👉 अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारे इस नंबर +91 87910 15577 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें! धन्यवाद