पहाड़ की पीड़ा : बारिश में आधे रास्ते में रात को मोबाइल की रोशनी में प्रसव कराया…..

खबर शेयर करें

अल्मोड़ा न्यूज: जिले में स्वास्थ्य सुविधाएं बदहाल हैं। लोगों को समय पर उपचार नहीं मिल पाता है। ऐसा ही एक मामला विकासखंड भैंसियाछाना के रीठागाड़ क्षेत्र का है। यहां पर कनारीछीना में प्रसव पीड़ा से पीड़ित एक महिला की जान सड़क मार्ग नहीं होने से आफत में पड़ गई। अस्पताल जाते वक्त आधी रात को पैदल रास्ते में ही बच्चे को जन्म दे दिया।

कनारीछीना के पतलचौरा गांव की प्रियंका वाणी(21) पत्नी राजेंद्र सिंह वाणी को मंगलवार रात अचानक प्रसव पीड़ा हुई। गांव में सड़क सुविधा ना होने के कारण परिजन उसको डोली में लेकर रात में स्वास्थ्य केंद्र ला रहे थे।

यह भी पढ़ें 👉  मुख्यमंत्री के निर्देश- गुलदार के हमलों के बीच प्रभावित क्षेत्रों में चौबीसों घंटे अलर्ट मोड में रहे विभाग


घर से कुछ ही दूरी में महिला को तेज प्रसव पीड़ा होने लगी। गांव की ही कुछ बुजुर्ग महिलाओं और आशा के सहयोग से महिला ने अंधेरी सर्द रात में बारिश के बीच खेतों में ही बच्चे को जन्म दिया। ग्रामीण महिलाओं ने किसी प्रकार टॉर्च और मोबाइल के उजाले से छाता ओड़कर महिला का सुरक्षित प्रसव कराया। बाद में परिजन बच्चे सहित महिला को डोली में रखकर वापस घर लौट आए। गनीमत रही कि जच्चा-बच्चा दोनों ही स्वस्थ हैं। गांव के लोगों ने बताया वह लंबे समय से सड़क की मांग कर रहे हैं। उनकी मांग आज तक पूरी नहीं हो पाई।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 सजग पहाड़ के समाचार ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें, अन्य लोगों को भी इसको शेयर करें

👉 सजग पहाड़ से फेसबुक पर जुड़ें

👉 अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारे इस नंबर +91 87910 15577 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें! धन्यवाद