बागेश्वर उपचुनावः कांग्रेस ने भाजपा से बताई कांटे की टक्कर, आरोप- धन-बल का हो रहा दुरूपयोग

खबर शेयर करें

देहरादून। उत्तराखंड प्रदेश मुख्यालय में बागेश्वर उपचुनाव पर प्रेसवार्ता के दौरान बोलते हुए उत्तराखंड कांग्रेस की मुख्य प्रवक्ता गरिमा मेहरा दसौनी ने उत्तराखंड की भाजपा सरकार पर बागेश्वर उपचुनाव में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया।

श्रीमती दसोनी ने कहा कि बागेश्वर उपचुनाव में कांग्रेस की स्थिति बहुत ही मजबूत है, जिससे सत्ताधारी दल बौखला गया है। दसौनी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी संविधान में अगाध विश्वास रखने वाली पार्टी है और संवैधानिक तरीके से ही चुनाव लड़ रही है। सीमित संसाधनों के बावजूद कांग्रेस पार्टी का कार्यकर्ता अपनी मेहनत के बल पर वहां सत्ताधारी दल को कांटे की टक्कर दिए हुए हैं। मुख्य प्रवक्ता गरिमा मेहरा दसौनी ने कहा कि बागेश्वर की जनता भी भाजपा की भाषणों और जुमलों से परेशान हो चुकी है। भाजपा के  कभी न पूरे होने वाले लंबे चौड़े वादों  के मद्देनजर बागेश्वर की जनता परिवर्तन का मन बना चुकी है। दसोनी ने कहा कि बागेश्वर की जनता भाजपा सरकारों की कुनितियों और अदूरदर्शिता के परिणाम स्वरूप विकराल रूप धारण कर चुकी महंगाई और बेरोजगारी से परेशान हो चुकी है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: यहां मिली 14 साल के मोहित की लाश

मुख्य प्रवक्ता गरिमा मेहरा दसौनी ने आरोप लगाया कि बागेश्वर में भाजपा के नेताओं के इशारों पर खुलकर धन बल और बाहुबल का प्रयोग किया जा रहा है। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के मनोबल को तोड़ने के लिए उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है। मुख्य प्रवक्ता गरिमा मेहरा दसौनी ने कहा कि बेमतलब कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के वाहनों का चालान किया जा रहा है, बैनर और पोस्टर लगने के आधे घंटे बाद फाड़ दिए जा रहे हैं,प्राइवेट गाड़ी में भी यदि गले में पट्टा डाले कोई कार्यकर्ता दिखाई पड़ रहा है तो उसे परमिशन लेटर की मांग की जा रही है। मुख्य प्रवक्ता गरिमा मेहरा दसौनी ने जानकारी देते हुए बताया कि युवा कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष भीम कुमार और भुवन फर्सवान पर बिना किसी अपराध के धारा 107 /116 में शांति भंग का नोटिस दे दिया गया है। दसौनी ने बागेश्वर जिला प्रशासन से सवाल करते हुए कहा कि बागेश्वर जिला प्रशासन बताएं कि अभी तक भाजपा के कितने कार्यकर्ताओं पर शांति भंग का नोटिस जारी किया गया है?

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर…. इन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

प्रशासन बताएं की क्या बागेश्वर उप चुनाव में उपद्रव केवल कांग्रेस के कार्यकर्ता कर रहे हैं? दसौनी ने कहा कि बागेश्वर में 188 बूथ हैं जिनके ग्राम प्रधानों और जनप्रतिनिधियों को फोन पर डराया और धमकाया जा रहा है क्योंकि भाजपा को अपनी हार सामने दिखाई पड़ रही है। मुख्य प्रवक्ता गरिमा मेहरा दसौनी ने जिला प्रशासन की निंदा करते हुए कहा कि बागेश्वर से बाहर के पत्रकारों को बागेश्वर उप चुनाव कवर करने की इजाजत नहीं दी जा रही है और कई पत्रकार बेरंग वापस लौट आए हैं ।बागेश्वर के पत्रकारों के लिए भी फरमान जारी हुआ है कि उन्हें किसी भी पत्रकार वार्ता में जाने से पहले सूचना विभाग से अनुमति लेनी होगी उसके बाद ही वह किसी पत्रकार वार्ता में सम्मिलित हो पाएंगे। दसौनी ने बताया कि इसकी शिकायत कांग्रेस पार्टी चुनाव आयोग से करेगी। 

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 सजग पहाड़ के समाचार ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें, अन्य लोगों को भी इसको शेयर करें

👉 सजग पहाड़ से फेसबुक पर जुड़ें

👉 अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारे इस नंबर +91 87910 15577 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें! धन्यवाद