छात्र संघ चुनाव…. जिसको टिकट नहीं दिया, उस बेटी ने रच डाला इतिहास, एमबीपीजी में बनाया ये रिकॉर्ड

खबर शेयर करें

हल्द्वानी : कुमाऊं के सबसे बड़े महाविद्यालय एमबीपीजी में इस बार एक छात्रा ने इतिहास रच डाला।
निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में रश्मि लमगड़िया ने पहली बार अध्यक्ष पद पर जीत हासिल की। रश्मि ने एबीवीपी और एनएसयूआई की प्रत्याशी को करारी शिकस्त दी। निर्दलीय प्रत्याशी रश्मि लमगड़िया 2647 वोट लेकर आई तो एवीबीपी के कौशल बिरखानी को 1353 वोट मिले, एनएसयूआई के सूरज भट्ट को 470 वोट मिले।

एनएसयूआई प्रत्याशी सूरज भट्ट शुरुआत से ही रेस में नही थे, पहली बार एमबीपीजी कॉलेज में महिला अध्यक्ष बनकर रश्मि ने इतिहास रच डाला है। रश्मि लमगड़िया ने एबीवीपी से टिकट की दावेदारी की थी। अभाविप ने कौशल बिरखानी को टिकट दिया। जिसके बाद निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में रश्मि मैदान पर उतरीं और शानदार जीत हासिल की है। दूसरे नंबर पर अभाविप के कौशल रहे तो तीसरा स्थान एनएसयूआई के सूरज भट्ट का रहा। वहीं, निर्दलीय प्रत्याशी अरहम रज़ा ने अंतिम पायदान पर कब्ज़ा किया।

यह भी पढ़ें 👉  अल्पसंख्यक आयोग के राष्ट्रीय अध्यक्ष की अपील- आवाम के लिए सौहार्दपूर्ण बनाएं माहौल

1960 में एमबीपीजी कॉलेज हल्द्वानी की स्थापना हुई थी। उसके बाद सन 1978 में पहली बार निर्वाचन प्रक्रिया यहां संपन्न हुई थी। इतने सालों पुराने कॉलेज के इतिहास में आजतक कई सारे पुरुष अध्यक्षों ने छात्रहितों के लिए आवाज बुलंद की है। मगर ये पहला मौका है जब एक महिला को अध्यक्ष बनने का मौका मिला है।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 सजग पहाड़ के समाचार ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें, अन्य लोगों को भी इसको शेयर करें

👉 सजग पहाड़ से फेसबुक पर जुड़ें

👉 अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारे इस नंबर +91 87910 15577 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें! धन्यवाद