बड़ी खबर…. इस बार बग्वाल मेले में ये रहेगा खास, लिए गए ये फैसले

खबर शेयर करें

चम्पावत। उत्तर भारत के सुप्रसिद्ध माँ बाराही धाम में बग्वाल (असाड़ी) मेला-2023 के सफल संचालन हेतु विभिन्न व्यवस्थाओं को लेकर शनिवार को जनपद चंपावत के देवीधुरा मेला स्थल सभागार में मुख्य अतिथि अध्यक्ष जिला पंचायत  ज्योति राय की उपस्थिति और प्रभारी जिलाधिकारी हेमंत कुमार वर्मा की अध्यक्षता में बैठक संपन्न हुई।

बैठक में मेले के आयोजन के संबंध में विभिन्न व्यवस्थाओं को लेकर चर्चा की गई और प्रशासन तथा मंदिर समिति के मध्य सहमति बनी की मेला 27 अगस्त से 10 सितंबर तक चलेगा।  बैठक में निर्णय लिया गया कि इस वर्ष मेला क्षेत्र 6.5 किमी परिधि तक रहेगा जिसका प्रस्ताव बैठक में पारित हुआ। इस क्षेत्र अंतर्गत पुलिस सुरक्षा व्यवस्था, यातायात व्यवस्था, पानी व्यवस्था, विधुत व्यवस्था व वाहन पार्किंग व्यवस्था आदि पर चर्चा की गई।  बैठक में चर्चा के दौरान निर्णय लिया गया कि गत वर्ष की भांति 10 स्थानों पर पुलिस व्यवस्था रहेगी और 2 बेरियरों के साथ ही सम्पूर्ण क्षेत्र में सीसीटीवी कैमरे लगेंगे और पुलिस विभाग सम्पूर्ण क्षेत्र में लगातार पेट्रोलिंग करेगी। इस हेतु प्रभारी जिलाधिकारी ने पुलिस उपाधीक्षक को आवश्यक  सुरक्षा व्यवस्था हेतु पुलिस बल तैनात करने के निर्देश दिए।

चर्चा कि गई कि मेले को बेहतर और शांतिपूर्ण तरीके से आयोजित करने हेतु एक सीओ स्तर के पुलिस मेला अधिकारी नियुक्त किए जायेंगे और साथ ही मेले में एनएसएस तथा स्काउड के स्वयं सेवक भी रहेंगे।  यातायात व्यवस्था सुगम बनाने हेतु निर्णय लिया गया कि वाहन निर्धारित पार्किंग स्थलों में ही पार्क किए जायेंगे, वाहन मुख्य बाजार में पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेंगे और वाहनों का परिक्रमा क्षेत्र से ही आवागमन होगा।  इस दौरान अध्यक्ष जिला पंचायत ज्योति राय ने कहा कि मेले को भव्य व ऐतिहासिक बनाने में जिला पंचायत अपना पूर्ण सहयोग प्रदान करेगा और क्षेत्रीय जनता से मेले को सफल बनाने हेतु सहयोग करने की अपील की।

यह भी पढ़ें 👉  युवक को भालू ने उतारा मौत के घाट, इलाके में दहशत

बैठक में विधायक लोहाघाट खुशाल सिंह अधिकारी ने कहा कि गत वर्ष की भांति भी मेले को भव्य रूप से आयोजित होगा। इस उन्होंने सभी क्षेत्रीय जनता से सहयोग की अपील की।  प्रभारी जिलाधिकारी ने  सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में नालियों की सफाई, झाड़ी कटान हेतु लोनिवि और एएमई जिला पंचायत को संयुक्त निरीक्षण कर शीघ्र कार्य को पूरा करने के निर्देश दिए और सम्पूर्ण बाजार क्षेत्र में पूर्व में लगाए गए सीसीटीवी कैमरों को चेक करने और जो कैमरे खराब हो गए है उन्हे तत्काल ठीक करने के निर्देश दिए। उन्होंने अधिशासी अभियंता जल संस्थान को मेला अवधि के दौरान पेयजल तथा कार्मिकों की उचित व्यवस्था करने के निर्देश दिए, जिस पर ईई जल संस्थान ने बताया कि मेला अवधि में 2 पेयजल टैंकरों के साथ ही आवश्यकतानुसार कार्मिकों की तैनाती की जाएगी तथा पार्किंग स्थलों के साथ ही जगह जगह अस्थाई स्टेंड पोस्ट लगाए जाएंगे तथा खराब हो रहे हैंड पंपों की मरम्मत भी करा ली जाएगी। 

लोनिवि को निर्देश दिए कि क्षेत्र में मेला अवधि के दौरान सभी मार्गों में जेसीबी मशीन तैनात करने के साथ ही वालिक से रीठाखाल, गागर आदि सड़कों को ठीक कराया जाए। सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के साथ ही झाड़ी कटान व पैदल रास्तों की सफाई मरम्मत का कार्य कराया जाए। प्रभारी जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियंता लोनिवि लोहाघाट को निर्देश दिए कि लोहाघाट से वालिक तक मोटर मार्ग को दुरुस्त रखा जाए साथ ही अन्य सभी सड़क मार्ग में जेसीबी चलाकर जो सड़क बरसात में क्षतिग्रस्त हो गई हैं उनकी मरम्मत का प्रस्ताव शीघ्र तैयार कर आपदा प्रबंधन विभाग को भेजकर कार्य पूर्ण कराएं। मेले के दौरान आवास की व्यवस्था के संबंध में उन्होंने कहा कि क्षेत्र के विभिन्न विद्यालयों, पंचायत घरों, विश्राम गृहों को आरक्षित रखा जाएगा और शिक्षा विभाग द्वारा 4 दिनों तक स्थानीय विद्यालयों में अवकाश घोषित करने के संबंध में मुख्य शिक्षा अधिकारी को आवश्यक निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें 👉  विषपान से बुजुर्ग की हुई मौत, गृह कलह बताई जा रही वजह

प्र.जिलाधिकारी ने मेले में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन हेतु सांस्कृतिक दलों, लोक कलाकारों को आमंत्रित करने हेतु सूचना एवं संस्कृति विभाग को आवश्यक निर्देश दिए ताकि मिले को और अधिक भव्य बनाया जा सकें।बैठक में मेले के दौरान टैक्सियों के उचित किराए का निर्धारण किए जाने के साथ ही दुर्घटनाओं को रोके जाने हेतु लगातार वाहनों का निरीक्षण करने के निर्देश पुलिस विभाग तथा परिवहन विभाग को दिए। प्र.जिलाधिकारी ने कहा कि यात्रियों को बेहतर तथा सुविधाजनक परिवहन व्यवस्था मिले इस हेतु कार्य किया जाएगा और एआरटीओ द्वारा वाहनों का किराए का निर्धारण भी किया जाएगा। साथ ही रोडवेज तथा केएमओयू  को अतिरिक्त बसों के संचालन हेतु प्रस्ताव रखा गया, जिस पर प्र.जिलाधिकारी ने संबंधितो को आवश्यक निर्देश दिए।

प्र. जिलाधिकारी ने मेले के दौरान समाज कल्याण विभाग  को कैंप लगाकर लोगों को सरकारी योजनाओं से लाभान्वित करने के निर्देश दिए साथ ही 29 अगस्त को बहुद्देशीय शिविर का आयोजन किया जाएगा, जिसमें अल्मोड़ा, नैनीताल जिले के विकासखंड लमगड़ा और ओखलकांडा से भी विभागों द्वारा प्रतिभाग किया जाएगा, जिस हेतु संबंधित जिलों को अनुरोध पत्र प्रेषित किया जाएगा।  मेले अवधि के दौरान विभिन्न खेलकूद, सामान्य ज्ञान, साहसिक आदि प्रतियोगिताएं भी आयोजित कराई जाएगी, जिस हेतु प्र.जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को तैयारी पूर्ण करने के निर्देश दिए।  मेले के दौरान उचित विद्युत व्यवस्था के संबंध में प्र.जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियंता यूपीसीएल तथा उरेडा को निर्देश दिए कि मेला अवधि के दौरान विद्युत आपूर्ति बाधित न हो इस हेतु वैकल्पिक व्यवस्था जनरेटर आदि की व्यवस्था पूर्व ही कर ली जाए।

यह भी पढ़ें 👉  दर्दनाक हादसा- खाई में जा गिरी तीर्थ यात्रियों की बस, 21 की मौत

 मेले के दौरान स्वास्थ्य सेवाओं के संबंध में स्वास्थ्य केंद्र देवीधुरा में अतिरिक्त चिकित्सकों, मेडिकल स्टाफ व पर्याप्त मात्रा में दवा, एंबुलेंस व साफ सफाई की व्यवस्था रखी जाए। जिस पर अपर मुख्य चिकित्साधिकारी रश्मि पंत ने बताया कि मेला अवधि में चिकित्सा कैंप आयोजित किया जाएगा और लोगों को विभिन्न प्रकार की सुविधाएं दी जाएगी।   उन्होंने जिला पंचायत को मेला अवधि के दौरान मेला क्षेत्र अंतर्गत विभिन्न स्थानों में अस्थाई शौचालय का निर्माण कराने के निर्देश दिए। बैठक में मेले के दौरान टेंट, विद्युत, रंग रोगन आदि व्यवस्था पर भी चर्चा की गई और प्रभारी जिला अधिकारी ने सभी विभागों को निर्देश दिए कि जिस विभाग को जो दायित्व सौपा गया है उसको मेले से पूर्व ही पूर्ण करना सुनिश्चित कर लें।   उन्होंने उप जिलाधिकारी पाटी को समय समय पर मेले की व्यवस्थाओं की समीक्षा करने के निर्देश दिए। 

 बैठक में अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत ने अवगत कराया कि मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप यह मेला राजकीय मेला घोषित हो गया है।  उन्होंने बताया कि विभिन्न व्यवस्थाओं हेतु गत वर्ष  5 लाख प्राप्त हुए थे जिनका व्यय विभिन्न व्यवस्थाओं को पूर्ण करने में कर दिया गया है।  बैठक में ब्लॉक प्रमुख पाटी सुमंलता, अध्यक्ष मंदिर कमेटी मोहन सिंह, उपजिलाधिकारी पाटी अनिल कुमार चन्याल, सीओ विवेक सिंह कुटियाल, जिला पंचायत सदस्य कानिकोट सीमा विश्वकर्मा, एएमई जिला पंचायत भगवत पाटनी, पूर्व मंदिर समिति अध्यक्ष खीम सिंह लमगड़िया, प्रकाश राय समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी, मंदिर समिति के पदाधिकारी आदि मौजूद रहे। बैठक का संचालन कीर्ति बल्लभ जोशी तथा हयाद सिंह ने किया।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 सजग पहाड़ के समाचार ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें, अन्य लोगों को भी इसको शेयर करें

👉 सजग पहाड़ से फेसबुक पर जुड़ें

👉 अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारे इस नंबर +91 87910 15577 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें! धन्यवाद