यहां बंदूक की सुरक्षा में स्कूल ले जाए और लाए गए बच्चे

खबर शेयर करें

रामनगर। आपने बच्चों को हंसते-खेलते और गाते हुए स्कूल जाते तो देखा होगा, लेकिन ऐसा शायद ही देखा हो कि बंदूक के साये में बच्चे जाएं। लेकिन यह बात सच है। रामनगर के राकजीय इंटर कॉलेज ढैला के पटरानी इलाके में रहने वाले बच्चों को सोमवार को बंदूक की सुरक्षा में ही स्कूल लाया और ले जाया गया।

दरअसल, यहां दो दिन पूर्व ढेला में जंगल में लकड़ी बीनने गई महिला कलादेवी को बाघ ने मार दिया था। तब से ही ढेला के ग्रामवासियों और पटरानी से ढेला इंटर कालेज पढ़ने आने वाले 80 से अधिक बच्चों को भी पूर्ण सुरक्षा की मांग उठ रही थी। जिस इलाके में बाघ ने महिला को शिकार बनाया था, इस इलाके से पटरानी निवासी बच्चे राजकीय इंटर कॉलेज ढेला के लिए जाते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  गेठिया के जंगल में सड़ी-गली हालत में मिला अज्ञात शव, सनसनी

इस मामले में इंटर कॉलेज के शिक्षकों के द्वारा वन विभाग के कर्मियों के साथ लगातार समन्वय बनाया जा रहा है और कॉलेज जाते वक्त और कॉलेज से घर आते वक्त बच्चों को पूरी सुरक्षा दी जा रही है। इस बीच बच्चों को लाने, ले जाने के लिए वाहन की मांग की भी बात सामने आ रही है, सोमवार को बच्चों को लाने वालों में कार्बेट टाइगर रिजर्व के गोधन सिंह, वन आरक्षी, तेजपाल रावत, कुबेर बंगारी शामिल रहे।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 सजग पहाड़ के समाचार ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें, अन्य लोगों को भी इसको शेयर करें

👉 सजग पहाड़ से फेसबुक पर जुड़ें

👉 अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारे इस नंबर +91 87910 15577 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें! धन्यवाद