चर्चा में कुंजवाल: कहा, चुनाव लड़ने को 14 करोड़ चाहिए, मेरे पास नहीं, पार्टी मुझे क्यों लोकसभा का टिकट देगी

खबर शेयर करें

अल्मोड़ा। उत्तराखंड में कांग्रेस के नेता अपनी बयानबाजी को लेकर काफी चर्चा में रहते हैं। अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधान सभा अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल ने ऐसा बयान दिया की वह चर्चा में आ गए। जब उनसे पूछा गया की आगामी लोक सभा चुनाव में वह नैनीताल संसदीय सीट से चुनाव लड़ेंगे तो इस पर उन्होंने कहा की उनके पास चुनाव लड़ने के लिए पैसे नहीं है। नैनीताल सीट में चुनाव लड़ने के लिए करीब 14 करोड़ रुपये चाहिए। इतनी उनकी क्षमता नहीं है। उनको पार्टी भी टिकट नहीं देगी।

यहां अल्मोड़ा के शिखर होटल में अल्मोड़ा संसदीय सीट में लोक सभा चुनाव की तैयारी को लेकर बैठक में पहुँचे कुंजवाल से पत्रकारों ने उनके नैनीताल संसदीय सीट से चुनाव लड़ने के कयास को लेकर सवाल पूछा तो कुंजवाल ने कहा की वह कांग्रेस के बहुत छोटे कार्यकर्ता हैं। जितना भी समय उनको मिला।

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा::: डीजे ना बजाने पर विवाद, मुकदमा, ये है पूरा मामला

उन्होंने बहुत ईमानदारी के साथ काम किया। चुनाव में आजकल पैसा बहुत लगता है।इसलिए उन्होंने कहा मेरे पास पैसा नहीं है। ना मैं दावेदारी कर सकता हूं और ना चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर कर सकता हूं। पार्टी मुझे टिकट देगी भी नहीं। वो जानती है। पार्टी वालों को भी पैसे वाले चाहिए। जबकि नैनीताल लोकसभा संसदीय सीट में 14 विधानसभा सीट हैं। एक विधानसभा में एक करोड़ भी खर्च करोगे तो 14 करोड़ रुपये चाहिए।

यह भी पढ़ें 👉  अपहरण के बाद युवती से किया दुराचार, पुलिस ने दबोचा आरोपी

कम भी खर्च करेंगे तो 7 करोड़ तब भी चाहिए। ये क्षमता मेरी नहीं है। मैंने खुद को ईमानदारी के साथ सीमित रखा है। आज के दिन भी उनके पास एक खाता। उसमें ही उनकी पेंशन आती है। उससे ही वह अपना गुजारा कर रहे हैं। कुंजवाल का यह बयान चुनाव आयोग की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठा रहा है। हालांकि चुनाव आयोग हर चुनाव में चुनाव लड़ने वाले प्रत्यशियों के खर्च के लिए एक रकम तय करता है।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 सजग पहाड़ के समाचार ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें, अन्य लोगों को भी इसको शेयर करें

👉 सजग पहाड़ से फेसबुक पर जुड़ें

👉 अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारे इस नंबर +91 87910 15577 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें! धन्यवाद