Subscribe our YouTube Channel

अल्मोड़ा:शिक्षक प्रशिक्षकों ने जताया विरोध

खबर शेयर करें

अल्मोड़ा न्यूज़: टीचर एडुकेटर फोरम के प्रांतीय आह्वान पर शिक्षक प्रशिक्षकों के पृथक कैडर की नियमावली शीघ्र प्रख्यापित किये जाने के लिए अल्मोड़ा में शिक्षक प्रशिक्षकों ने आज डायट परिसर में काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन किया।

इस मौके पर शिक्षकों ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2012 से वर्तमान राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 तक जारी किए गए विभिन्न दिशा निर्देशों व शासनादेशों में, शिक्षक प्रशिक्षण संवर्ग गठन को आवश्यक व अनिवार्य मानते हुए इसके शीघ्र गठन के लिए राज्य सरकार को निर्देशित किया गया है।


इन निर्देशों के क्रम में उत्तराखंड राज्य द्वारा 2013 में शिक्षक प्रशिक्षण संवर्ग का शासनादेश निर्गत किया गया। लेकिन शासन एवं विभाग की टालमटोली एवं लापरवाही, निजी स्वार्थ व देहरादून में जमे रहने की प्रवृति के कारण इसकी नियमावली को वर्तमान तक प्रख्यापित नहीं किया जा सका है। नियमावली प्रख्यापित न होने के बावजूद भी केंद्र पुरोनिधानित शिक्षा के अंतर्गत बजट प्राप्त करने के लिए वास्तविक तथ्यों को छुपाकर केंद्र से प्रतिबर्ष  करोड़ों रूपये का बजट प्राप्त किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा न्यूज…. गांव की छात्राओं ने पूछा हम डॉक्टर और इंजीनियर बनना चाहते हैं…. कैसे करें तैयारी

जिसके भविष्य में घातक परिणाम हो सकते हैं। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद द्वारा भी शिक्षक प्रशिक्षण संस्थानों में निर्धारित मानकानुसार एवं शिक्षक प्रशिक्षण के लिए निर्धारित योग्यताधारी अभ्यर्थियों को नियुक्त करने के लिए निर्देशित किया जाता है । राज्य में समय-समय पर विज्ञापन प्रकाशित कर निर्धारित योग्यताधारी शिक्षकों का चयन के माध्यम से इन संस्थानों में पदस्थापन तो किया गया किन्तु संवर्ग की नियमावली  प्रख्यापित न होने के लाभ लेकर उच्च स्तर से संदर्भित व्यक्तियों को भी इन संस्थानों में स्थानांतरित किया जा रहा है। जिससे इन संस्थानों में पूर्व से कार्य कर रहे निर्धारित योग्यताधारी  उच्च प्रशिक्षित शिक्षक भी अपने को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। सुगम संस्थानों में ही स्थानान्तरण व पदस्थापन होने से दूरस्थ डायटों में कार्मिकों का लगातार अभाव बना हुआ है ! सुगम स्थान की की डायटों में उच्च संदर्भित व्यक्तियों को बिना चयन प्रक्रिया के ही पदस्थापित किया जा रहा है । विगत दो माह में 36 शिक्षकों को सिर्फ पहुँच के आधार पर डायट और
एससीईआरटी देहरादून में स्थानान्तरित कर दिया गया जो वर्तमान तक जारी है।  माननीय शिक्षा मंत्री जी द्वारा पृथक कैडर बनाने की बात लगातार कही जा रही है ।
केंद्र सरकार द्वारा शिक्षक प्रशिक्षको की क्षमता संवर्धन प्रशिक्षण कार्यशालाओं पर विगत 15 वर्षों में  करोड़ों रुपया ब्यय किया जा चुका है।ठोस नियमावली के अभाव में वर्तमान में खुली विज्ञप्ति के माध्यम से चयनित शिक्षक प्रशिक्षकों को अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उपरोक्त समस्याओं के शीघ्र निराकरण हेतु टीचर एजुकेटर फोरम का प्रतिनिधिमंडल माननीय मुख्य मंत्री, शिक्षा मंत्री एवं शिक्षा सचिव से  टी ई एफ के अध्यक्ष डॉ.प्रेम सिंह मावडी के नेतृत्व में मिला एवम मांग की गई  कि शीघ्रताशीघ्र  नियमावली प्रख्यापित कर इन संस्थानों के लिए पूर्ण योग्यता रखने वाले शिक्षक प्रशिक्षकों को समायोजित करते हुए खाली पड़े पदों पर खुली विज्ञप्ति के माध्यम से शीघ्र भर्ती की जाय। लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही धरातल पर न आ सकी! जिस कारण शिक्षक प्रशिक्षकों में भारी रोष है।
इस क्रम में डाइट अल्मोड़ा के TEF सदस्यों द्वारा भी सांकेतिक प्रदर्शन किया गया। सांकेतिक प्रदर्शन में
डायट TEF श्री गोपाल गिरि गोस्वामी(संयोजक), ललित मोहन पाण्डे,राकेश मिश्रा, डॉ.हरीश चंद्र जोशी.डॉ. भुवन चन्द्र पांडेय, डॉ. प्रकाश चन्द्र पंत उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा….पुरानी पेंशन को लेकर बैठक, ये किया गया तय

राजकीय शिक्षक संघ के संस्थापक सदस्य व पूर्व जिला मंत्री गोपाल सिंह गैड़ा ने कहा कि जब प्रशिक्षण से संबंधित अलग निदेशालय की स्थापना की गई है तो शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता संवर्धन हेतु शासनादेश के अनुसार अलग कैडर भी बनाया जाना चाहिए।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 सजग पहाड़ के समाचार ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें, अन्य लोगों को भी इसको शेयर करें

👉 सजग पहाड़ से फेसबुक पर जुड़ें

👉 अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारे इस नंबर +91 87910 15577 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें! धन्यवाद

Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments